भारतीय जागरूकता समिति : नशा एक जहर है जो बच्चों को बचपन में ही खोखला कर रहा है

-बच्चों को यातायात नियमों की भी जानकारी दी और कहा कि समाज में बच्चों की महत्वपूर्ण भूमिका है
-निर्धारित आयु होने पर ही वाहन चलाए और वाहन चलाते हुए सभी नियमो का पालन करें 
-1090 पर की गयी कॉल पर पुलिस के तुरंत पहुंचने पर बच्चों ने पुलिस की प्रशंसा की

दैनिक समाचार, हरिद्वार, भारतीय जागरूकता समिति द्वारा मां सरस्वती सीनियर सेकेंडरी स्कूल में विधिक जागरूकता कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमे मुख्य अथिति एसपी क्राइम व ट्रैफिक मनोज कत्याल, एआरटीओ रश्मि पंत, एसओ बहादराबाद रणबीर सिंह चौहान एवं हाई कोर्ट के अधिवक्ता ललित मिगालनी ने स्कूल के बच्चों को विभिन्न कानूनों के संबंध में जानकारी दी।

एसपी मनोज कत्याल ने बच्चों को नशे के दुष्प्रभावों के संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि नशा एक जहर है। जो बच्चों को बचपन में ही खोखला कर रहा है। उन्होंने बच्चों को यातायात नियमों की भी जानकारी दी और कहा कि समाज में बच्चों की महत्वपूर्ण भूमिका है। एआरटीओ रश्मि पंत ने बच्चों को ट्रैफिक रूल्स के विषय में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि 18 वर्ष की आयु पूरी करने पर ही वाहन चलाने का लाईसेंस  बनता है। बिना लाईसेंस वाहन चलाना जुर्म है। जिसके लिए जुर्माना भुगतना पड़ सकता है। निर्धारित आयु होने पर ही वाहन चलाए और वाहन चलाते हुए सभी नियमो का पालन करे।

हाईकोर्ट के अधिवक्ता ललित मिगलानी ने बताया कि समाज में युवाओं को भ्रमित करने के कई प्रयास किये जा रहे है। जिसके झांसे में आकर कई लोग साइबर क्राइम के शिकार हो जाते हैं। उन्होंने बच्चों को ट्रैफिक लॉ एवं साइबर क्राइम के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी। कार्यक्रम में 1090 पर एक डेमो भी दिया गया। जिसमे स्कूल के बच्चों द्वारा 1090 पर की गयी कॉल पर पुलिस के तुरंत पहुंचने पर बच्चों ने पुलिस की प्रशंसा की। स्कूल के संस्थापक एवं निर्देशक अमित कुमार चौहान ने विधिक जागरूकता कार्यशाला का आयोजन करने के लिए आयोजकों की सराहना करते हुए अतिथियों का स्वागत एवं आभार व्यक्त किया।

Leave a Comment

error: Content is protected !!