चारधाम यात्रा का श्रीगणेश, गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुले, नरेन्द्र मोदी के नाम की पहली पूजा, चले आईए उत्तराखंड

मुख्यमंत्री ने कपाट खुलने पर प्रदेश वासियों को दी बधाई
छह मई को केदारनाथ और 8 को बदरीनाथ धाम खुलेगा
बड़ी तादाद में श्रद्धालुओं के आने की है सरकार को संभावना

दैनिक समाचार, उत्तराखंड: अक्षय तृतीय के पावन दिन विधिवत तरीके से चारधाम यात्रा का श्रीगणेश हो गया। गंगोत्री व यमुनोत्री धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए अगले छह माह तक के लिए खुल गए हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कपाट खुलने पर प्रदेश वासियों को शुभकामनाएं दी। अब 6 मई को बाबा केदारनाथ और 8 मई को बदरीनाथ धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खुल जाएंगे।मंगलवार सुबह मां यमुना के मायके खरशाली से मां यमुना की विदाई हुई। मां यमुना की डोली सुबह 8:15 बजे यमुनोत्री धाम के लिए रवाना हुई। उधर यमुनोत्री धाम में मां यमुना के स्वागत की तैयारी की हुई। दोपहर 12:15 बजे यमुनोत्री मंदिर के कपाट विधि विधान से देश-विदेश के श्रद्धालुओं के लिए खोले गए। वहीं गंगोत्री धाम के कपाट भी श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं।यात्रा को सुचारु रूप से संचालित करने के लिए सरकार व प्रशासन ने तैयारियां पूरी है। इस बार चारधाम यात्रा में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है। चारधामों में ठहरने, स्वास्थ्य, बिजली, पानी की व्यवस्था करना सरकार के लिए बड़ी चुनौती है। मंगलवार को गुप्तकाशी विश्वनाथ मंदिर से सुबह बाबा केदार केदारनाथ धाम की ओर चल पड़ी है।

विधिविधान के साथ खुले यमुनोत्री धाम के कपाट
दोपहर 12:15 बजे यमुनोत्री धाम के कपाट विधिविधान के साथ खोल दिए गए। इस दाैरान धाम मां यमुना के जयकारों को गूंज उठा।

मुख्यमंत्री ने यात्रियों की संख्या निर्धारित करने पर कही ये बात
चारधाम यात्रा को लेकर तीन दिन पहले शासन की ओर से यात्रियों की संख्या निर्धारण के आदेश के मामले में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि यात्रा को लेकर कोई संख्या निर्धारित नहीं की गई है। अगर यात्री अधिक संख्या में आते हैं तो उसके बाद कोई निर्णय लिया जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से पहली पूजा
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी तीन मई को हर्षिल हेलीपैड पहुंचे। इसके बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी कार से गंगोत्री धाम पहुंचे और कपाटोद्घाटन में प्रतिभाग किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से पहली पूजा हुई है। जिसमें मुख्यमंत्री ने पूजा की।

Leave a Comment

error: Content is protected !!