बेहोश हुए पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, कांग्रेस सात दिन तक करेगी प्रदर्शन, सीएम धामी ने बोला हमला, प्रदेश भर में फूटा शिक्षित बेरोजगारों का गुस्सा

प्रदेश के कई शहरों में उत्तराखंड बेरोजगार संघ का बंद का दिखा व्यापक असर
हरीश रावत के बेहोश होते मचा हड़कंप, देहरादून का सियासी तापमान गरम
सीएम ने कहा, वजूद खो चुके राजनीतिक दल छात्रों के कंधे पर बंदूक रख चला रहे

दैनिक समाचार, देहरादून: शिक्षित बेरोजगारों पर गुरुवार को हुए लाठीचार्ज के खिलाफ प्रदेश के कई शहरों में शुक्रवार को जोरदार प्रदर्शन किया गया। उत्तराखंड बेरोजगार संघ के आहृवान पर कई राजनैतिक और गैर राजनीतिक संगठनों ने समर्थन दिया। प्रदर्शन को लेकर देहरादून से लेकर हल्द्वानी तक पुलिस चप्पे-चप्पे पर तैनात रही। देहरादून में प्रदर्शनकारियों ने जबरन कई दुकानें बंद कराई। कचहरी में घुस कर हंगामा किया। बंद को कांग्रेस की ओर से पूरा समर्थन मिला। कांग्रेस ने अब सात दिन तक लगातार बेरोजगारों के समर्थन और सरकार के खिलाफ प्रदर्शन का एलान किया है। वहीं, बेरोजगारों के समर्थन में कांग्रेस की ओर से आयोजित प्रदर्शन के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत अचानक बेहोश हो गए। जिससे हड़कंप मचा रहा। दूसरी ओर, बेरोजगार संघ से अपर मुख्य सचिव ने वार्ता करके उन्हें उनकी मांगों को लेकर भरोसा जताया। इधर, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह घामी ने कहा कि सियासी वजूद खो चुके राजनीतिक दल छात्र-छात्राओं के कंधे पर बंदूक रखकर अपनी सियासत करना चाहते हैं। सीएम ने कहा कि भर्ती घोटाले में अब तक 55 लोगों को जेल भेजा जा चुका हैं। नकल विरोधी कानून को अध्यादेश पारित करने के लिए राज्यपाल को भेज दिया गया है।
भर्ती घोटाले में सीबीआई जांच आदि की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे शिक्षित बेरोजगारों पर पुलिस ने गुरुवार को लाठीचार्ज किया था। जिसमें कई प्रदर्शनकारी घायल हो गए थे। प्रदर्शनकारियों की ओर से भी जमकर पथराव किया गया था। पुलिस ने कई प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर गिरफतार किया। शुक्रवार को उत्तराखंड बेरोजगार संघ ने सभी से अपील की थी कि वे शुक्रवार को बंद में उनका साथ दें। प्रदेश कांग्रेस कमेटी गुरुवार को ही एलान कर चुकी थी कि वे बेरोजगारों के साथ सड़कों पर लड़ाई लड़ने को तैयार है। इसी दौरान, कांग्रेस की ओर से आयोजित बंद के समर्थन में किए जा रहे प्रदर्शन के दौरान अचानक पूर्व सीएम हरीश रावत की तबीयत अचानक बिगड़ गई। हरीश रावत धरना प्रदर्शन स्‍थल पर बेहोश हो गए। उनके बेहोश होते ही सभी लोग घबरा गए। आनन-फानन में मौके पर मौजूद ऐंबुलेंस में उनका चेकअप किया गया।​​ फिलहाल उनकी सेहत स्थिर बताई जा रही है।

पुलिस बर्बरता के विरोध में कांग्रेस सात दिन करेगी प्रदर्शन, हरीश रावत और कापडी से की गई बदसलूकी
प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में उत्तराखण्ड कांग्रेस के अध्यक्ष करन माहरा एवं उपनेता प्रतिपक्ष भुवन कापडी ने संयुक्त रूप से कहा कि भाजपा सरकार प्रदेश में भ्रष्टचार का पर्याय बन चुकी है। अपने कुछ चहेते सफेदपोशों को बचाने के लिए राज्य सरकार किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार है, इसीलिए इतने व्यापक स्तर पर परीक्षाओं में गड़बड़ियों के बावजूद सीबीआई जांच नहीं कराई जा रही। माहरा ने कहा कि पहले दिन से जबसे यूकेएसएससी घोटाला सामने आया है तब से लेकर आज तक कांग्रेस पार्टी सिर्फ और सिर्फ सीबाआई जांच हाईकोर्ट के किसी सिटिंग जज की निगरानी में करवाने की मांग कर रही हैं। माहरा ने युवाओं पर पुलिस प्रशासन के द्वारा की गयी बर्बरता की कठौर शब्दों में निंदा की। राज्य सरकार ने प्रदेश के युवाओं को अनसुना कर उन्हें सड़कों पर उतरने के लिए मजबूर कर दिया। प्रदेश के बेरोजगार युवा कोई बहुत बड़ी मांग सरकार से नहीं कर रहे हैं बल्कि भर्ती घोटालों की सीबीआई जांच और पहले जांच फिर परीक्षा करवाए जाने को लेकर अडिग हैं। सरकार अपनी एजेन्सी से जांच करवा रही है, जानबूझ कर केस को कमजोर किया जा रहा है। माहरा ने कहा कि यूकेएसएससी के पूर्व अध्यक्ष एस राजू की गिरफ्तारी तो दूर जाॅच व पूछताछ तक नहीं की जा रही है। लोक सेवा आयोग की ओर से आयोजित परीक्षाएं तक लीक हो गई। अतिगोपन विभाग के तीन में दो अधिकारी षडयंत्र में शामिल पाये गये जिससे युवाओं का शक और पुख्ता हो गया। बेरोजगार युवा सड़कों पर उतरे जिसे राज्य सरकार ने सही तरीके से हैंडल नहीं किया। महारा ने कहा कि जब जब भाजपा आती है आखिर क्यों प्रदेश की जनता पर लाठियां भाजी जाती हैं ?क्यों मुख्यमंत्री युवाओं से सीधे वार्ता नहीं कर रहे ?म्हारा ने आरोप लगाया कि भाजपा संगठन से जुड़े युवा आंदोलन में सुनियोजित षड्यंत्र के तहत शामिल हुए जिन्होंने उत्तराखंड कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष प्रीतम सिंह के साथ अभद्रता की। सरकार को साफ करना चाहिए कि किसके इशारे पर लाठीचार्ज हुआ?

महारा ने कहा के आज कांग्रेस के प्रदर्शन में भी पुलिस ने सिर्फ मुझपर बल्कि पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश के वरिष्ठतम नेता हरीश रावत के साथ भी अभद्रता की। उपनेता प्रतिपक्ष भुवन कापड़ी के साथ भी बल प्रयोग किया गया। पुलिस ने सारी हदें पार कर दीं जिससे पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की तबीयत भी बिगड़ गई। महारा ने कहा कि शनिवार को पुनः प्रदेश मुख्यालय राजीव भवन से पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत व उप नेता प्रतिपक्ष भुवन कापड़ी के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ता एक बार फिर पुलिस मुख्यालय कूच करेंगे। महारा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी मांग करती है कि जिन युवाओं को गिरफ्तार किया गया है उन पर से अपराधिक मुकदमे हटाए जाएं ,व उनकी जायज मांगों को माना जाए। उपनेता प्रतिपक्ष भुवन कापड़ी ने कहा कि उनकी ओर से विधानसभा में साक्ष्यों के साथ पेपर लीक मामले को उठाया गया मगर सरकार ने मामले में कोई गंभीरता नहीं दिखाई। सरकार पूरे मामले में लीपापोती करती आ रही है। पत्रकार वार्ता के दौरान उपाध्यक्ष संगठन मथुरा दत्त जोशी ,मुख्य प्रवक्ता गरिमा मेहरा दसौनी, प्रदेश प्रवक्ता शीशपाल सिंह बिष्ट,पंकज छेत्री एवं संदीप चमोली उपस्थित रहे।

अपर मुख्‍य सचिव ने की अपील
अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी से शुक्रवार को सचिवालय में उत्तराखंड बेरोजगार संघ के सदस्यों ने भेंट की। बेरोजगार संघ के सदस्यों ने अपर मुख्य सचिव रतूड़ी को अपने मुद्दों को लेकर वार्ता की। अपर मुख्य सचिव ने कहा कि बेराजगार संघ की ओर से रखे गये मुद्दों से मुख्यमंत्री को अवगत कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि युवा अपनी बात शांतिपूर्वक तरीके से रखें।

Dainik Samachaar

Leave a Comment

error: Content is protected !!