खुले बाबा केदार के कपाट, पहली पूजा मोदी के नाम, झूमकर नाचे श्रद्धालु, गुरुवार को बदरीनाथ की बारी

मंगलवार की सुबह ढोल नगाड़ों के बीच हजारों श्रद्धालुओं की मौजूदगी में खुला बाबा का कपाट
7000 हजार से अधिक श्रद्धालु केदानाथ कपाट खुलने के बने साक्षी, मौसम कर रहा परेशान
हेली सेवा की भी आज से शुरुआत, एसडीआरएफ की टीमों की कई जगहों पर हुई है तैनाती

दैनिक समाचार, देहरादून: मंगल की सुबह ढोल नगाड़ों और श्रद्धालुओं के जयकारों के बीच पूरे विधि विधान के साथ बाबा केदार धाम के कपाट सुबह 6:20 मिनट पर खोल दिए गए। मंदिर की 35 कुंतल फूलों से भव्य सजावट की गई है। कपाट खुलने के दौरान सात हजार से अधिक श्रद्धालु केदारनाथ पहुंचे हैं। बाबा केदार में कपाट खुलते पहली पूजा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम से की गई। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने श्री केदारनाथ में पूजा-अर्चना की। सीएम ने देश एवं प्रदेश की सुख-समृद्धि की बाबा केदार से प्रार्थना की वहीं, 26 अप्रैल को बदरीधाम का भी कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया जाएगा।
सुबह पांच बजे कपाट खुलने की प्रक्रिया शुरू हो गई थी। सबसे पहले धार्मिक परंपराओं के निर्वहन के साथ-साथ बाबा केदार की पंचमुखी भोग मूर्ति चल उत्सव विग्रह डोली में विराजमान होकर रावल निवास से मंदिर परिसर में पहुंची। इसके बाद रावल एवं श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के पदाधिकारियों की मौजूदगी में प्रशासन की ओर से मंदिर के कपाट खोले गए। मुख्य पुजारी ने गर्भ गृह में भगवान केदारनाथ की विशेष पूजा-अर्चना की। बाबा केदार की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली यात्रा भी सोमवार दोपहर सेना की 6-ग्रेनेडियर रेजिमेंट की बैंड धुनों के बीच गौरीकुंड से केदारनाथ धाम पहुंचने पर सरकार ने हेलीकाप्टर से पुष्पवर्षा कराकर धाम में डोली यात्रा का स्वागत किया। केदारनाथ धाम में ढाई फूट के करीब बर्फ जमी हुई है। पैदल मार्ग के पांच किमी हिस्से में लिनचोली से केदारनाथ के बीच भी बर्फ जमी हुई है और भैरव गदेरा, लिनचोली व रुद्रा प्वाइंट में हिमस्खलन का खतरा बना हुआ है। वहीं, बदरीनाथ धाम के कपाट को बृहस्पतिवार को खोल दिया जाएगा। बदरीनाथ धाम के कपाट 27 अप्रैल को सुबह 6:10 बजे खोले जाएंगे। बदरीनाथ धाम में भी मौसम पल-पल करवट ले रहा है।

केदारनाथ में बोले सीएम, मौसम की जानकारी लेकर आएं श्रद्धालु
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि उत्तराखण्ड की चारधाम यात्रा को सुगम एवं सुरक्षित बनाने के लिए हर संभव प्रयास किये गये हैं। समाजिक संगठनों, स्वयं सेवी संस्थाओं का भी यात्रा के लिए पूरा सहयोग मिल रहा है। पिछले वर्षों के अनुभवों के आधार पर यात्रा व्यवस्थाओं को आगे बढ़ाने का कार्य किया गया है। उन्होंने बाबा केदार के दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं से अपील की है कि मौसम की जानकारी लेकर बाबा केदार के दर्शन लिए आयें, ताकि किसी को भी मौसम की वजह से कोई असुविधा न हो। गंगोत्री एवं यमुनोत्री धाम में यात्रा सुचारू रूप से चल रही है। 27 अप्रैल को भगवान बद्री विशाल के कपाट भी श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खुल जायेंगे।

मौसम की केदारनाथ में चेतावनी, गंगोत्री-यमुनोत्री के लिए कोई पाबंदी नहीं
केदारनाथ में अगले कुछ दिनों तक मौसम खराब रहेगा। चारधाम यात्रा के प्रवेश द्वार टिहरी में कुछ श्रद्धालुओं को पुलिस ने केदारनाथ जाने से पहले रोका है। अनुकूल मौसम की स्थिति बनते उन्हें जाने दिया जाएगा। टिहरी के भद्रकाली, मुनिकीरेती थाने के व्यासी में श्रद्धालुओं को रोका गया है जबकि गंगोत्री और यमुनोत्री जाने वाले यात्रियों पर कोई पाबंदी नहीं है।

Dainik Samachaar

Leave a Comment

error: Content is protected !!