कोरोना संक्रमण की टीकाकरण व्यवस्था पहले ही दिन हुई डिरेल

-कोरोना संक्रमण को लेकर 15 से 18 के किशोरों का शुरू हुआ टीकाकरण

-प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की घोषणा के बाद टीकाकरण के नए चरण की हुई शुरूआत

-हरिद्वार जनपद में लगाए जाएंगे 1 लाख 65 हजार किशोर-किशोरियों को टीका

दैनिक समाचार, हरिद्वार

कोरोना संक्रमण से किशोर-किशोरियों को सुरक्षित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा के बाद सोमवार से टीकाकरण के नए चरण की शुरुआत हो गई। पहले ही दिन टीकाकरण व्यवस्था चरमरा गई। वैक्सीन तो कई सेंटरों पर पहुंची लेकिन वैक्सीन लगाने वाले स्वास्थ्य कर्मी कई जगहों पर नहीं पहुंचे। वहीं, इस चरण में 15 से 18 साल के किशोरों का टीकाकरण किया जाएगा। हरिद्वार जनपद में 1 लाख 65 हजार किशोर-किशोरियों को टीके लगाए जाएंगे। सोमवार से शुरू हुए टीकाकरण में जनपद में 368 केंद्र बनाए गए हैं। स्वास्थ्य केंद्रों के अलावा जनपद के स्कूल-कॉलेजों में भी टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं। स्कूलों में छात्र छात्राओं सहित अन्य किशोरों को भी कोरोना का टीका लगाया जाएगा। स्कूल कॉलेजों में टीकाकरण व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी जनपद के शिक्षा विभाग को दी गई है। वहीं, जनपद के श्यामपुर क्षेत्र में भी 15 से 18 वर्ष तक के बच्चों को 3 जनवरी से वैक्सीनेशन किया गया। सुबह नौ बजे से वैक्सीनेशन शुरू हुआ। 48 स्कूल बच्चों का लक्ष्य स्वास्थ्य विभाग को मिला है। इसके लिए तैयारियां भी शुरू कर दी गई हैं। इसमें 232 बच्चों के लिए एक टीम वैक्सीनेशन के लिए बनाई जाएगी। श्यामपुर के आदर्श इंटर कॉलेज और एमकेआर विद्यालय के बच्चों ने वैक्सीन लगवाई। जिसमें दोनों विद्यालयों के टीचर्स और स्टाफ ने अहम भूमिा निभाई।


—-
पहले ही दिन कई जगहों पर चरमराई टीकाकरण योजना
15 से 18 वर्ष के किशोर किशोरियों को सुरक्षित रखने के लिए टीकाकरण के नए चरण की शुरुआत के पहले दिन ही हरिद्वार में टीकाकरण की व्यवस्थाएं चरमरा गई। ज्वालापुर म्युनिसिपल इंटर कॉलेज व सेक्टर 5 स्थित विद्या मंदिर कॉलेज, कनखल आर्य इंटर कॉलेज, खड़खड़ी डीएवी स्कूल सहित अनेक केंद्रों पर दोपहर तक नहीं पहुंची। स्वास्थ्य विभाग की टीम की केंद्रों पर वैक्सीन तो पहुंची मगर वैक्सीन लगाने वाले स्वास्थ्य कर्मी नहीं पहुंचे। जिले के सीएमओ डॉक्टर खगेन्द्र सिंह से बयान लेने की कोशिश की गई लेकिन उनका फोन रिसीव नहीं हुआ।
—–
जिलाधिकारी ने कई सेंटरों का किया निरीक्षण
जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय ने टीकाकरण महाअभियान की व्यवस्थाओं का जायजा लिया। सोमवार को विभिन्न स्कूल-कालेजों के वैक्सीनेशन साइटों का स्थलीय निरीक्षण किया। जिलाधिकारी सर्वप्रथम बीएचईएल स्थित डीपीएस स्कूल पहुंचे, जहां उन्होंने काॅलेज के प्रधानाचार्य डाॅ. अनुपम जग्गा से काॅलेज में बच्चों की उपस्थिति, वैक्सीनेशन लगाने की व्यवस्था आदि के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी ली। स्कूल में चल रही वैक्सीनेशन की प्रक्रिया का भी जायजा लिया। स्कूल के प्रधानाचार्य ने बताया कि कोविड-19 टीकाकरण के प्रति बच्चों में जागरूकता के साथ-साथ काफी उत्साह है। इसके पश्चात जिलाधिकारी ने ज्वालापुर इण्टर कालेज, ज्वालापुर स्थित राजकीय कन्या इण्टर काॅलेज आदि का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान एसडीएम पूरण सिंह राणा, रेडक्रास सचिव डाॅ नरेश चौधरी आदि मौजूद रहें।

—–

डीपीएस रानीपुर में 800 बच्चों को कोविड वैक्सीन लगायी गयी
डीपीएस रानीपुर में प्रशासन के निर्देशानुसार 15 से 18 वर्ष अठारह वर्ष के कक्षा नौ एवं दस के लगभग 800 बच्चों को कोविड वैक्सीन लगायी गयी। प्रात 10 बजे से ही बच्चों एवं अभिभावकों ने डीपीएस प्रांगण में आना शुरू कर दिया। प्रधानाचार्य डा. अनुपम जग्गा ने कहा की बच्चों के वैक्सीनेशन के इस महत्त्वपूर्ण प्रोजेक्ट को शीघ्र से शीघ्र एवं सफलतापूर्वक पूर्ण करने को हम सभी कृतसंकल्प है तथा प्रशासन के सहयोग के लिए तत्पर हैं।
—–
“जनपद में 15 से 18 साल के किशोरों को कोरोना वैक्सीन लगाने का अभियान शुरू कर दिया गया है। जनपद के 368 केंद्रों पर किशोरों को टीका लगाया जाएगा। इसके लिए स्कूल कॉलेजों में भी छात्र छात्राओं सहित अन्य किशोरों को कोरोना टीका लगाया जाएगा। इसके लिए जिले के मुख्य शिक्षा अधिकारी को जिम्मेदारी दी गई है। वह स्वास्थ्य विभाग के साथ समन्वय कर टीकाकरण कार्य कराएंगे। शीतकालीन अवकाश वाले स्कूलों में भी छात्रों को टीकाकरण के लिए बुलाया जाएगा। एक सप्ताह में जनपद के सभी किशोरों को टीकाकरण किये जाने का लक्ष्य है। आज टीकाकरण का पहला दिन है इसलिए व्यवस्थाओं में समय लग रहा है। आज शाम तक टीकाकरण कार्य सुव्यवस्थित ढंग से चल सकेगा।”
विनय शंकर पाण्डेय, जिलाधिकारी, हरिद्वार

Leave a Comment

error: Content is protected !!