नेपाल-भारत के रास्तों पर मचा हड़कंप जांच शुरू, छात्रों पर फूटा कोरोना बम हरिद्वार और हल्द्वानी में अधिक संक्रमित

-कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को लेकर सीएम ने लिया था निर्णय

-अपने सभी सार्वजनिक कार्यक्रमों को मुख्यमंत्री ने किया स्थगित

दैनिक समाचार, उत्तराखंड

शनिवार को प्रदेश में कोरोना के बढ़ते संक्रमण और ओमिक्रोन को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अहम निर्णय लिया था। सीएम ने अपने सभी सार्वजनिक कार्यक्रम को फिलहाल स्थगित कर दिए था। दूसरे राज्यों से आने वालों को कोरोना निगेटिव रिपोर्ट लेकर आना होगा।

वहीं, हरिद्वार और हल्द्वानी में कोरोना बम फूटा है

शनिवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने अपने सारे सार्वजनिक कार्यक्रम स्थगित कर दिए थे। लोगों से अपील भी की गई है कि वे कोविड गाइडलाइन का सख्ती से पालन करें। सीएम ने अधिकारियों को निर्देशित किया था कि कोविड प्रोटोकाॅल के उल्लंघन पर सख्त कार्रवाई की जाए। उत्तराखंड सरकार ने शुक्रवार की देर रात को ही यह निर्णय ले लिया था कि 16 जनवरी तक राजनीतिक रैलियों, धरना-प्रदर्शनों पर रोक लगा दी है। इसके साथ ही आंगनबाड़ी केंद्रों से लेकर 12 वीं तक के सभी शैक्षणिक संस्थान भी इस अवधि तक बंद रहेंगे। रात दस बजे से सुबह छह बजे तक नाइट कफ्र्यू को कड़ाई से पालन किया जाए। जिम, शॉपिंग मॉल, सिनेमा हॉल, स्पॉ, सैलून, मनोरंजन पार्क, थियेटर, ऑडिटोरियम व इनसे सम्बन्धित गतिविधियां 50 प्रतिशत क्षमता के साथ संचालित होंगे। स्वीमिंग पूल, वाटर पार्क 16 जनवरी तक बंद रहेंगे। दूसरी ओर, चिंता बढ़ाने वाली खबर ये आर्ई कि शुक्रवार को हरिद्वार के रोशनाबाद स्थित राजकीय कालेज ऑफ नर्सिंग में छात्र छात्राओं और स्टाफ समेत 90 से अधिक लोग संक्रमित हो गए हैं। उत्तरकाशी के नेहरू पर्वतारोहण संस्थान में प्रशिक्षण के लिए आए एनडीआरएफ के पांच जवान संक्रमित हैं। वहीं, हल्द्वानी के एक कॉलेज में कोरोना विस्फोट हो गया। पाल नर्सिंग कॉलेज हल्द्वानी के 93 विद्यार्थी कोरोना पॉजिटिव मिलने से हड़कंप मच गया। बाहरी राज्यों से आने वालों पर सख्ती बरतने के निर्देश दिए हैं। उत्तराखंड आने वाले वह व्यक्ति, जिनके पास कोविड वैक्सीनेशन की दोनों डोज का प्रमाण पत्र नहीं है, उन्हें 72 घंटे पूर्व की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट के साथ राज्य में प्रवेश की अनुमति होगी।

सीएम ने दिए थे प्रोटोकॉल तोड़ने वालों पर सख्त कार्रवाई के निर्देश 

ओमीक्रोन के बढ़ते मामलों को देखते हुए सभी सार्वजनिक स्थानों, पर्यटक स्थलों, बाजार, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, मंडी, शॉपिंग मॉल व अन्य भीड़ भाड़ वाले स्थानों पर कोविड प्रोटोकॉल मास्क, सामाजिक दूरी, हाथों को सेनेटाइज करने का कड़ाई से अनुपालन करना होगा। कोविड प्रोटोकॉल को तोड़ने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवार्ई के निर्देश मुख्य सचिव ने सभी जिलाधिकारियों को दिए हैं।

—————

-पिथौरागढ़ के जौलजीवी में नेपाली नागरिका में मिल कोरोना

-चंपावत से लगते नेपाल बार्डर पर भी बढ़ार्ई गर्ई सतर्कता

नेपाल से भारत आ रहे लोगों में कोरोना की पुष्टि के बाद हड़कंप मच गया है। भारत नेपाल को जोडऩे वाले सभी पुलों पर चिकित्सा टीम तैनात करके सघन जांच की शुरूआत की गई्र है। जौलजीबी में नेपाल से भारत आ रहा एक नेपाली नागरिक के कोरोना पाजिटिव मिलने पर वापस लौटाया गया। वहीं, चम्पावत में चेकपोस्टों पर दोनों ओर स्वास्थ्य विभाग की टीमें तैनात हैं। साथ ही वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट की गहनता से जांच की जा रही है। उत्तराखंड के पिथौरागढ़ क्षेत्र अंतर्ग्रतत पुल से शनिवार को एक नेपाली नागरिक दवा लेने भारत आ रहा था। अंतरराष्ट्रीय पुल को पार कर जब वह भारत में प्रवेश किया तो पुल पर तैनात चिकित्सा टीम ने एंटीजन जांच की। जांच में एंटीजन मिला। नेपाली नागरिक को नेपाल में मात्र 16 दिन पूर्व नेपाल में कोरोना का टीका लगाया है। नेपाल से आने-जाने वालों को लेकर दोनों तरफ का प्रशासन मुस्तैद है। चम्पावत जिले से मैत्री बस के संचालन में इसी तरह की सतर्कता बरती जा रही है। प्रशासन का कहना है कि यदि कोरोना के लक्षण हो तो बाहर न निकलें। इससे आप अपने अलावा दूसरे यात्रियों को भी संक्रमित कर सकते हैं।

Dainik Samachaar

Leave a Comment

error: Content is protected !!