सिपाहियों का पत्र वायरल : चुनाव बहिष्कार, पद से इस्तीफा और बढ़ी रकम दान देने की बात, शासन-प्रशासन की उड़ी नींद

-वायरल पत्र को शासन और पुलिस मुख्यालय को भेजा गया, किया प्रदर्शन

दैनिक समाचार, उत्तराखंड

शासन और पुलिस मुख्यालय के खिलाफ ग्रेड पे को लेकर सिपाहियों की वायरल पत्र ने हड़कंप मचा दिया है। सिपाहियों ने वायरल पत्र में चुनाव बहिष्कार का एलान करके शासन-प्रशासन के माथे पर बल डाल दिया है। दरअसल, सिपाही 4600 ग्रेड पे की मांग कर रहे थे लेकिन इनके वेतन में उनके अनुकूल बढ़ोतरी नहीं की गई। इसके बाद अचानक ये पत्र वायरल हो रहा है। पुलिस मुख्यालय पत्र को लेकर बेहद अलर्ट है। शासन की ओर से सिपाहियों के ग्रेड पे का आदेश जारी होने के बाद उनमें नाराजगी दिखाई दे रही है। जो धनराशि सिपाहियों की बढाई गई है उसे वे नाकाफी बता रहे हैं। सिपाहियों ने मुख्यमंत्री तक को अपने वायरल पत्र में शामिल किया है और लिखा है कि वे सैनिक पुत्र हैं। आश्वासन दिया था लेकिन कुछ हुआ नहीं। वायरल पत्र में सिपाहियों ने यहां तक कहा है कि वे बढोतरी की राशि दान के रूप में सरकार को लौटा देंगे। ग्रेड पे को लेकर सरकार के रवैये पर सिपाहियों के इस्तीफे और उनके लिखे अन्य पत्र सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद खुफिया विभाग भी बेहद अलर्ट मोड में है। वायरल पत्र में सिपाही ने लिखा है कि सरकार ने उनके साथ धोखा किया है। इन दो लाख रुपये में उनका कुछ नहीं होगा। लिहाजा, यह दो लाख रुपये वह सरकार को दान दे देगा। उनका कहना है कि उन्होंने मुख्यमंत्री धामी पर विश्वास किया था। लगा था कि युवा मुख्यमंत्री है, सैनिक पुत्र हैं और घोषणा भी पुलिस के मंच से ही हो रही है। सिपाही ने पुलिस मुख्यालय में बैठे अधिकारियों को भी धनराशि दान देने की बात लिखी है। यह पत्र उसने उत्तराखंड सरकार और पुलिस मुख्यालय दोनों को संबोधित करते हुए लिखा है।

सिपाहियों के इस्तीफा देने के एक और वायरल पत्र ने बढ़ाई चिंता

सिपाहियों के इस्तीफे के पत्र जो वायरल हो रहे हैं उनमें उन्होंने खुद को पेंशन का हकदार भी बताया है। लिहाजा, उन्होंने इन इस्तीफों को स्वीकार करने की मांग की है। एक पत्र में तो सरकार और शासन के अधिकारियों को निशाना बनाया गया है। सिपाही की ओर से वायरल हुए इस पत्र में लिखा गया है कि इस धनराशि से उसके परिवार का कुछ नहीं होने वाला है। इस धनराशि को वह सरकार को दान स्वरूप दे रहा है। शायद इससे कुछ भला शासन में बैठे अधिकारियों का हो जाए।

ग्रेड-पे की मांग को पुलिसकर्मियों के परिजनों का प्रदर्शन

उत्तराखंड में लंबे समय से चल रही 4600 ग्रेड पे की मांग को लेकर पुलिसकर्मियों के परिजनों ने सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। साथ ही सरकार पर पुलिसकर्मियों की अनदेखी करने का आरोप लगाया।

ये है पूरा मामला
प्रदेशभर में पुलिसकर्मियों के परिजन 4600 ग्रेड पे की मांग करते आ रहे हैं। साथ ही जगह-जगह विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। पुलिस विभाग में 20 साल की सेवा देना के बाद 4600 ग्रेड पे दिया जाता है, लेकिन लंबे समय से उत्तराखंड में 20 साल की नौकरी पूरी कर चुके सिपाहियों को अब भी 2800 ग्रेड पे ही दिया जा रहा है जबकि सिपाही से ऊपर की सभी पोस्ट के लिए 4600 ग्रेड पे लागू हो चुका है। अन्य राज्यों में सिपाहियों को 4600 ग्रेड पे मिल रहा है। उत्तराखंड में 20 साल से नौकरी कर रहे सिपाहियों को इसका लाभ नहीं दिया जा रहा है।

Dainik Samachaar

Leave a Comment

error: Content is protected !!