आखिर क्यों हरीश के दरबार पहुंचा चार बार से हार रहे एसपी इंजीनियर का विरोध

-पूर्व आईएफएफ की कांग्रेस से दावेदारी ने क्षेत्र में ​रोचक माहौल बनाया

-बीजेपी विधायक से नाराज जनता का फीड बैक हाईकमान तक पहुंचा

-कई ग्राम प्रधान और स्थानीय लोग सालों से क्षेत्र से गायब रहने का आरोप लगा रहे हैं

दैनिक समाचार, हरिद्वार

ज्वालापुर विधानसभा में रोचक मुकाबला होगा। फिलहाल तो बीजेपी और कांग्रेस में उम्मीदवारों को लेकर जोड़ तोड़ किया जा रहा है। लेकिन अचानक, ज्वालापुर विधानसभा सीट से कांग्रेस टिकट मांग रहे कांग्रेस के हारे पूर्व प्रत्याशी एसपी सिंह का विरोध क्षेत्र में तेज हो गया है। विरोध पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के दरबार तक पहुंच गया है। विधानसभा क्षेत्र के कुछ प्रधानों ने बाहरी बनाम स्थानीय का नारा देकर माहौल को गरमा दिया है। ज्वालापुर विधानसभा क्षेत्र में बीजेपी और कांग्रेस के प्रत्याशी घोषित होने हैं। पूर्व में कांग्रेस से अपना भाग्य आजमा चुके पूर्व विधायक एसपी सिंह अचानक सक्रिय हुए हैं। पिछली बार ज्वालापुर के विधायक सुरेश राठौर के हाथों ने उन्हें पराजय मिली थी। इसी बीच, कांग्रेस में इस क्षेत्र से मजबूत दावेदारी करते हुए पूर्व आईएफएस सनातन सोनकर ने कांग्रेस से दावेदारी की ताल ठोक दी है। जिसे लेकर एसपी सिंह की ​चिंता बढ़ गई् है। दूसरी ओर, अपनी सक्रियता की बदौलत सनातन सोनकर क्षेत्र में कांग्रेस के कार्यक्रमों को लगातार आयोजित कर रहे हैं। जबकि एसपी सिंह पर विधानसभा क्षेत्र के कई ग्राम प्रधान और स्थानीय लोग सालों से क्षेत्र से गायब रहने का आरोप लगा रहे हैं। अब चूंकि जब चुनाव का बिगुल बज चुका है पूर्व विधायक एसपी सिंह की सक्रियता का विरोध मुख्यमंत्री हरीश रावत के दरबार तक पहुंच चुका है। ग्राम प्रधानों ने बड़ी तादाद में पूर्व मुख्यमंत्री से स्थानीय बनाम बाहरी का नारा देकर एसपी सिंह के टिकट पर संकट खड़ा कर दिया है। कांग्रेस अब किसे ​टिक देगी ये तो मकर संक्रांति के बाद ही मालूम चलेगा लेकिन जिस तरह से पूर्व आईएफएस सनातन सोनकर ने कांग्रेस में टिकट को लेकर दावेदारी की है। उसने सभी की नींद उड़ा दी है।

एसपी सिंह इंजीनियर चार बार चुनाव हार चुके हैं

एसपी सिंह इंजीनियर चार बार चुनाव हार चुके हैं। बताया जाता है कि इंजीनियर चुनाव लड़ने के लिए आते हैं और चुनाव हारने के बाद वे दिल्ली लौट जाते हैं। ज्वालापुर विधानसभा से उनका कोर्ई सरोकार नहीं रहता है। जबकि पाँच साल से बीजेपी के वर्तमान विधायक सुरेश राठौर को लेकर भी लोगों में कहीं न कहीं नाराजगी दिखाई देती है। ऐसे में अबकी कांग्रेस दमदार प्रत्याशी को टिकट देकर इस सीट पर फतह की आस लगाए हुए है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!