पद मुक्त क्यों हुए किशोर : ‘हाथ’ के साथ रहेंगे या कमल का दामन थामेंगे

बीजेपी में जाने की चर्चाओं ने किशोर को किया ‘हलका’

-कांग्रेस ने किशोर उपाध्याय से लिया सारे पद वापस

-बीजेपी से नजदीकियां किशोर पर पड़ गर्ई भारी

दैनिक समाचार, हरिद्वार

राजनीति और कांग्रेस के गलियारे से ये बड़ी खबर आई है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय से सभी जिम्मेदारियां वापस ले ली गई है। इसके बाद, चर्चाओं का बाजार गरम हो गया है कि क्या किशोर बीजेपी का दामन थामेंगे या फिर कांग्रेस के सच्चे सिपाही बने रहेंगे। दरअसल, पिछले दिनों किशोर ने बीजेपी के नेताओं से मुलाकात की थी तभी इस तरह की चर्चाओं को हवा मिली थी। बहरहाल, किशोर का सियासी करवट किस ओर जाती है, इसकी तस्वीर जल्द साफ हो जाएगी। विधान सभा चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी घोषित होने से कुछ दिन पूर्व ही कांग्रेस हाईकमान ने बड़ा फैसला लिया है। कांग्रेस ने सख्ती दिखाते हुए पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय से सभी जिम्मेदारियां वापस ले ली हैं। सूत्रों की मानें तो विगत कुछ दिनों से किशोर उपाध्याय लगातार बीजेपी से नजदीकियां बढ़ा रहे थे। हालांकि उनसे इस बाबत पूछे जाने पर उन्होंने कहा था कि वे वनाधिकार आंदोलन सहित अन्य को लेकर मुलाकात कर रहे थे। उन्होंने अपनी मुलाकात को राजनीति से नहीं जोड़ने की बात कही थी। सूत्र साफ कहते हैं कि पार्टी विचारधारा से अलग बयान देने से हार्ईकमान नाराज हो गया था। कहा तो यहां तक जा रहा है कि उन्हें चेतावनी भी दी गई थी लेकिन किशोर मानें नहीं। लेकिन आज कांग्रेस ने किशोर से सभी अहम जिम्मेदारियां वापस ले ली हैं। चुनाव से ठीक पहले ऐसे कदम से सियासी गलियारे मेंं हलचल है। हालांकि किशोर टिहरी से चुनाव लड़ने की ताल ठोकते रहे हैं। कुल मिलाकर ये कहा जा रहा है कि बीजेपी में बार—बार जाने की चर्चा और अफवाहों के बीच किशोर उपाध्याय को उनको सभी पदों से हटा दिया गया है। अब देखना ​दिलचस्प होता है कि किशोर उपाध्याय कांग्रेस के ही ‘सिपाही’ बने रहते हैं या ‘फूल’ का दामन थामते हैं।

Dainik Samachaar

Leave a Comment

error: Content is protected !!