व्यापारियों को भड़काने के सिवा कांग्रेस ने कुछ नहीं किया, भाजपा ने सदैव रक्षा की: मदन कौशिक

रामलीला भवन में व्यापारियों ने दिया मदन कौशिक को खुलकर समर्थन
मदन कौशिक बोले, वे व्यापारियों के हितों के लिए सदैव रहे तत्पर
व्यापारी नेताओं ने कहा भाजपा की कथनी और करनी में कोई अंतर नहीं

दैनिक समाचार, हरिद्वार। हरिद्वार के व्यापारियों ने रामलीला भवन में भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी मदन कौशिक को खुलकर समर्थन दे दिया है और व्यापारियों से मदन कौशिक को जीताने की अपील की।
भाजपा प्रत्याशी मदन कौशिक ने व्यापारियों से रूबरू होते हुए कहा कि व्यापारियों के हितों व विकास के लिए वे हमेशा तत्पर रहे और व्यापारियों की समस्याओं को समाप्त करने का काम किया जबकि कांग्रेस की मानसिकता वाले लोगों ने व्यापारियों को भड़काने के सिवा कुछ नहीं किया। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार में हमेशा व्यापारियों को हितो की रक्षा की गई है। इस मौके पर प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष सुरेश गुलाटी ने कहा कि भाजपा प्रत्याशी मदन कौशिक में हमेशा हरिद्वार के व्यापारियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर व्यापारियों की समस्याओं को हल कराने का काम किया है। वरिष्ठ व्यापारी नेता मनोज सिंघल ने कहा कि भाजपा सरकार हमेशा व्यापारियों के लिए काम करती चली आ रही है।

जिससे देश का व्यापारी भाजपा से जुड़ा हुआ है। भाजपा सरकार व्यापारी हितों की बात करती है। भाजपा की कथनी और करनी में कोई अंतर नहीं है। मुकेश भार्गव पार्षद व्यापारी नेता अनिरुद्ध भाटी, शहर व्यापार मंडल के अध्यक्ष कमल ब्रजवासी ,प्रदीप कालरा, विजय शर्मा, नागेश शर्मा, विशाल गुप्ता, गगन नामदेव, डॉ विशाल गर्ग ,संजय त्रिवाल, गुलशन मशीन, गौरव सचदेवा ,विशाल गुप्ता, अनिल गुप्ता, विक्की आडवाणी, महेश गौड़ ,भोला शर्मा ,राहुल कंडवाल, सत्येंद्र झा ,आदित्य झा, विकास कुमार शर्मा, भाजपा जिला महामंत्री विकास तिवारी, मौजूद रहे।

युवा व्यापार मंडल के सवाल, भल्ला रोड विष्णु घाट व्यापार मण्डल की बैठक के दौरान युवा व्यापार मण्डल के जिलाध्यक्ष संदीप शर्मा ने कहा कि जो व्यापारी नेता चुनाव में समर्थन का खेल, खेल रहे हैं उनका समर्थन तो शुरू से ही राजनीतिक दलों को प्राप्त है। जब हरकी पैड़ी स्नान पर्व पर बंद की जाती है तब किसका समर्थन रहा। जब घाट बंद किये गए, ट्रेवल्स व्यापारी पैदल देहरादून तक गये तब किसका समर्थन था। उत्तर प्रदेश हिमाचल प्रदेश दिल्ली के साथ लगभग सभी प्रदेश खुले थे तब उत्तराखण्ड में ही सब बंद कर दिया गया था। उसका दोषी कौन है तब समर्थन कहां था। ऐसा कौन सा शहर का व्यापारी है जो कोरोना काल से अब तक सुखी जीवन व्यतीत कर रहा है। प्रत्येक व्यापारी कर्जों से दबा है सीजन की चाह में तड़प रहा है बच्चों के स्कूलों की फीस सर पर खड़ी है, क्या मिला अब तक विचार करें, अगर व्यापारी नेता चुनाव लड़ता तो समर्थन मिलना तय था।

Leave a Comment

error: Content is protected !!