उत्तराखंड के परिजन बेहद चिंतित, रातों की नींद है गायब, सरकार से कर रहे हैं गुहार, कुछ तो करो सरकार

रुस और यूक्रेन में उपजे संकट के बीच कई बच्चे उत्तराखंड के फंसे
मेडिकल के लिए यूक्रेन गए हुए हैं सूबे के कई बच्चे, परिजन डरे हुए
प्रदेश, केन्द्र और विदेश मंत्रालय से अपील, कांग्रेस ने भी लिखा पत्र

दैनिक समाचार, देहरादून/हरिद्वार: रुस और यूक्रेन में उपजे संकट के बीच युद्ध के आसार को देखते हुए उत्तराखंड से भी यूक्रेन में फंसे बच्चों को वापस लाने की मांग जोड़ पकड़ती जा रही है। उत्तराखंड के जिलों में रहने वाले परिजन बेहद चिंतित और डरे हुए हैं। अपने बच्चों को हर दिन वे याद कर रहे हैं। रात की नींद उनकी गायब हो चुकी है। देहरादून सहित राज्य के कई जिलों में रहने वाले परिजनों ने प्रदेश की सरकार से अपील की है। केन्द्र की सरकार और विदेश मंत्रालय से भी गुहार लगाई है।
यूक्रेन की राजधानी कीव समेत लिवीव, खारकीव जैसे शहरों में उत्तराखंड से बड़ी तादाद में मेडिकल की पढ़ाई के लिए छात्र-छात्राएं गए हुए हैं। हालिया परिस्थितियों को देखकर परिजनों की चिंता बढ़ गई है। देहरादून के हाथीबड़कला केंद्रीय विद्यालय में अध्यापिका रश्मि बिष्ट का बेटा सूर्यांश सिंह बिष्ट, शिक्षिका अंजू की बेटी श्रेया भी यूक्रेन के खारकीव में एमबीबीएस थर्ड ईयर की छात्रा है। ऐसे कई परिवार हैं जिनके बच्चे यूक्रेन में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे हैं। अभिभावक बेहद चिंतित है। उनकी रातों की नींद छीन गई है। एयर इंडिया ने भारत लाने के लिए 70 हजार किराया तय किया है। जिस पर परिजनें को एतराज है। दरसअल, महंगा किराये की वजह से वहां फंसे बच्चों को वापस भेजने में संस्थाओं ने भी हाथ खड़े कर दिए हैं। दिलचस्प पहलू यह है कि यूक्रेन के विभिन्न शहरों में फंसे बच्चों को सुरक्षित वापस लाने के लिए परिजन हवाई यात्रा के टिकट का भुगतान अपने बच्चों की खातिर करने को भी तैयार हैं लेकिन यूक्रेन के कीव, खारकीव व लिवीव जैसे शहरों से सीधी हवाई सेवाएं नहीं होने से बच्चों को आने में दिक्कत हो रही है। इसलिए यूक्रेन में फंसे बच्चों के अभिभावकों की मांग है कि सरकार को तत्काल तमाम बड़े शहरों से सीधी हवाई सेवाएं शुरू कर देनी चाहिए।इसलिए प्रदेश सरकार, केन्द्र सरकार और केन्द्र का विदेश मंत्रालय इस ओर तुरंत गौर करके बच्चों को स्वदेश लेकर आए। विशेष विमान इसके लिए भेजे जाने की भी मांग परिजनों ने की है। हालांकि भारतीय दूतावास के अधिकारी यूक्रेन में रहने वाले सभी भारतीयों के संपर्क में हैं।

गोदियाल ने यूक्रेन में फंसे लोगों को लेकर सीएम को लिखा पत्र
उत्तराखंड कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को यूक्रेन में फंसे लोगों को वापस लाने को लेकर पत्र भेजा है। गोदियाल ने अपने पत्र में कहा है कि यूक्रेन मेें रोजगार और पढ़ाई को लेकर बड़ी तादाद में उत्तराखंड से लोग गए हुए हैं। कई दिनों से बिगड़े हालात के बावजूद केन्द्र और राज्य सरकार की ओर से उत्तराखंड के फंसे लोगों को लाने की कोई व्यवस्था नहीं की गई है। प्रदेश सरकार को इस ओर गंभीरता से पहल करते हुए केन्द्र से बातचीत करके विशेष विमान भेजने की व्यवस्था की जानी चाहिए।

Dainik Samachaar

Dainik Samachaar

Leave a Comment

error: Content is protected !!