पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, 3 करोड़ के सांप के साथ हरिद्वार के 6 तस्कर गिरफ्तार, इनाम की घोषणा

-दो मुंह वाले सांप की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में लगभग 3 करोड़ रुपए बताई गई है

-सांप की लंबाई करीब 1 मीटर और वजन लगभग 4 किलो 600 ग्राम है

-वन विभाग ने बताया कि यह दुर्लभ प्रजाति का सैंड बोआ सांप है

-पुलिस ने वन्यजीव तस्करी की धाराओं में सभी 6 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है

दैनिक समाचार, ब्यूरो 

हरिद्वार। हरिद्वार की रुड़की पुलिस ने एक ऐसे सांप को बरामद किया है, जिसकी कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में लगभग 3 करोड़ रुपए बताई गई है। यह सांप दो मुंह वाला है। पुलिस ने इस सांप के साथ छह वन्यजीव तस्करों को भी गिरफ्तार किया है इस सांप की लंबाई करीब 1 मीटर और वजन लगभग 4 किलो 600 ग्राम है। इस सांप को देखने के लिए लोग बड़े उत्सुक हैं। बताया जा रहा है कि मुखबिर की सूचना पर रुड़की कोतवाली पुलिस ने एक बोलेरो गाड़ी की चेकिंग करते हुए तलाशी ली, तो बेहद दुर्लभ प्रजाति का दो मुहा सांप बरामद हुआ। जब बोलेरो सवार से इसके बारे में पूछा गया तो जानकारी मिली कि इसे जंगल से पकड़ कर लाया गया है, और जादू टोना कर जमीन से गड़े हुए धन की तलाश करने के बाद इसे महंगे दामों में बेचने की योजना बनाई गई थी। लेकिन पुलिस ने उन्हें पहले ही दबोच लिया। मौके पर पुलिस द्वारा वन विभाग को बुलाकर दो मुहा सांप दिखाया गया। जिसे वन विभाग ने बताया कि यह दुर्लभ प्रजाति का रेड सैंड  बोआ सांप है, जिसकी बाजार में कीमत करोड़ों रुपए की है और इसे पकड़ना और व्यापार करना पूरी तरह प्रतिबंधित है। पुलिस ने वन्यजीव तस्करी की धाराओं में सभी 6 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इस बड़ी कामयाबी पर हरिद्वार पुलिस कप्तान ने ढाई हजार रुपए और एसपी देहात ने 1000 की इनाम की पुलिस टीम को घोषणा की है।
———-
नहीं होता कोई दो मुंहा सांप, जानिये ऐसा क्यों


दो मुंहा सांप जिसका वैज्ञानिक नाम रेड सैंड बोआ है। उसके दो नहीं बल्कि एक ही मुंह होता है। यानी सामान्य सांप की तरह एक ही मुंह और एक ही पूंछ। दरअसल खतरा महसूस होने पर यह अपनी पूंछ को भी उठा लेता है जिससे लोगों ने मान लिया कि उसके दो मुंह होते हैं और यही बात प्रचलित होती चली गई है। यह भी एक बात है कि इसके पूंछ की बनावट भी आम सांप की तरह पतली नहीं बल्कि मुंह की तरह होती है, जिसकी वजह से ये दो मुंह वाला लगता है।

———
भारत के कई राज्यों में होती है तस्करी, उत्तराखंड में भी कई गिरोह सक्रिय

हरिद्वार: विलुप्त होने की कगार पर पहुँचे इस साँप की भारत के कई राज्यों में तस्करी होती है। इस सांप की रफ्तार बेहद धीमी होती है और यह रेतीले और पानी से लगते हुए इलाके में रहना पसंद करता है। चूंकि इसकी रफ्तार बेहद कम होती है और यह सामान्य तौर पर जहरीला नहीं होता है इसलिए इसे पकड़ना आसान होता है। विदेशों में इस सांप की बहुत डिमांड है। भारत में भी अंधविश्वास को लेकर खास तौर पर अथाह लक्ष्मी की प्राप्ति को लेकर लक्ष्मी सांप की तस्करी की जाती है। एशिया के कई देशों में ऐसी भ्रांति है कि दो मुंहे सांप का सेवन करने से यौन शक्ति बढ़ती है। लाइलाज बीमारी दूर होने की भी गलतफहमी है। इस सांप को संरक्षित जीव की श्रेणी में रखा गया है। भारत के उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान, बिहार, बंगाल, हरियाणा जैसे राज्यों में दो मुंहे सांपों को पकड़कर गिरोहों को बेचने और फिर उनकी तस्करी विदेश में करने का धंधा करने वाले गिरोह सक्रिय है।

—पकड़े गए आरोपियों में—
1-नाजिम पुत्र यूसुफ, थाना लक्सर
2-ताहिर पुत्र शकूर, थाना लक्सर
3-फकरुद्दीन पुत्र लियाकत अली, थाना लक्सर
4-दीपक सैनी पुत्र विशम्बर, थाना लक्सर
5-जावेद पुत्र जरीफ, थाना लक्सर
6- विन्दर पुत्र लक्ष्मीचंद, थाना, लक्सर हरिद्वार
—–
पकड़े गए आरोपियों के पास के एक दो मुहा दुर्लभ प्रजाति का सांप जो लगभग 1 मीटर लंबा और 4 किलो 600 ग्राम वजन अपराध में इस्तेमाल किए गए वाहन महिंद्रा बोलेरो कार UK08 ए एक्स 6086 बरामद की गई।

आरोपियों को पकड़ने वाली पुलिस टीम में
रुड़की कोतवाली प्रभारी निरीक्षक देवेंद्र सिंह चौहान कोतवाली
उप निरीक्षक संजय सिंह नेगी प्रभारी चौकी सोत
कॉन्स्टेबल विकास त्यागी, प्रदीप भंडारी, विपेन्द्र सिंह आदि रहे।

Dainik Samachaar

Dainik Samachaar

Leave a Comment

error: Content is protected !!