जिम्मेदार कौन…..? : हरिद्वार में पेयजल संकट, दाहसंस्कार करने वाले परेशान, मछलियां भी विलुप्त

-सिचाई विभाग जेई एवं सुपरवाइजर ने एक हफ्ते में कार्य पूर्ण करने का दिया आश्वाशन
-बिना जल निकासी की व्यवस्था के कारण लाखो मछलियां भी मर गई
-महानगर व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष सुनील सेठी ने जेई और सुपरवाइजर से मौके पर पोहचकर वार्ता की
-अगर समय से कार्य विलंब होता है तो उग्र आंदोलन किया जाएगा


दैनिक समाचार, ब्यूरो उतरी हरिद्वार में पेयजल संकट, दाहसंस्कार करने वाले परेशान, मछलियां विलुप्त, घाटों पर कार्य करने वाले बेरोजगार। सिचाई विभाग जेई एवं सुपरवाइजर ने एक हफ्ते में कार्य पूर्ण करने का दिया आश्वाशन। सामाजिक कार्यकर्ता महानगर व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष सुनील सेठी ने भगीरथ बिंदु पर हो रहे कार्य की लेटलतीफी के कारण आमजनमानस को हो रही परेशानियों को लेकर जेई और सुपरवाइजर से मौके पर पोहचकर वार्ता की एवं सिचाई विभाग के उच्च अधिकारियों से फोन पर वार्ता कर कार्य में तेजी लाने की मांग की। सेठी ने बताया कि पिछले लगभग तीन माह से ये कार्य हो रहा है। पहले सिचाई विभाग के अधिकारियों ने जल्दी कार्य पूरा करने एवं जनमानस को कोई परेशानी न हो इसके लिए आश्वाशन दिया था। लेकिन लगातार कार्य में हो रही देरी की वजह से अब पानी की सप्लाई पर भी प्रभाव पड़ रहा है।

पिछले 3 दिन से उतरी हरिद्वार एवं कई इलाकों में पानी की कमी का कारण जलसंस्थान के अधिकारी कार्य की लेटलतीफी को बता रहे है। वही दूसरी तरफ श्मशान घाट पर जल न होने की वजह से दाहसंस्कार करने वाले लोगो को भी परेशानी उठानी पड़ रही है। सिचाई विभाग की लेटलतीफी और बिना जल निकासी की व्यवस्था के कारण लाखो मछलियां भी मर गई एवं उतरी हरिद्वार के घाटों पर व्यापार कर अपनी आजीविका चलाने वाले भी सीजन शुरू होने पर खाली बैठे है। इन सभी समस्याओं को लेकर उच्च अधिकारियों से भी वार्ता हुई है जिसमे उन्होंने एक सप्ताह का समय कार्य पूर्ण करने का दिया है। अगर समय से कार्य विलंब होता है तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। मौके पर जितेंद्र चौरसिया, विनोद गिरी, श्याम कुमार, एस एन तिवारी, राजेश सुखीजा, नाथीराम उपस्तिथ रहे।

Dainik Samachaar

Leave a Comment

error: Content is protected !!