किसने लगाया आरोप : फीस जमा न कर ने वाले अभिभावकों कर रहे निजी स्कूल मुख्य सचिव, जिलाधिकारी को लिखा पत्र 

-मुख्य सचिव, जिलाधिकारी को पत्र लिखकर मनमानी पर अंकुश लगाने की मांग

सुनील सेठी

दैनिक समाचार, हरिद्वार सामाजिक कार्यकर्ता महानगर व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष सुनील सेठी ने मुख्य सचिव, जिलाधिकारी को पत्र लिखकर मनमानी पर अंकुश लगाने की मांग। आरोप लगाया की लॉकडाउन अवधि की फीस जमा न कर पाने वाले अभिभावकों को रिजल्ट, टीसी देने में कर रहे है परेशान निजी स्कूल। सामाजिक कार्यकर्ता महानगर व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष सुनील सेठी ने नए सत्र की शुरुआत होते ही निजी स्कूलों की मनमानी की शिकायत मुख्य सचिव एवं जिलाधिकारी हरिद्वार से की। सेठी ने बताया कि लोकडाउन से पीड़ित अभिवावक बड़ी मुश्किलों का सामना करते हुए स्कूल प्रबंधकों के हाथ पैर जोड़ एग्जाम में बच्चो को बिठा पाए लेकिन अब रिजल्ट लेने के समय उन्हें रिजल्ट या टीसी देने में स्कूलों द्वारा परेशान किया जा रहा है। लोकडाउन में सरकार द्वारा राहत दी गई ट्यूशन फीस एवं बड़ी फीस जमा करने को निजी स्कूलों द्वारा अभिववको पर दवाब बनाया जा रहा है। दूसरी तरफ जिन अभिववको को रिजल्ट दिया जा रहा है उन्हें नए सत्र की बड़ी फीस एवं एनुवल चार्जेस के नाम पर लंबी चौड़ी धनराशि की सूची दी जा रही है। मनमानी करते हुए एन सी ई आर टी की जगह प्राइवेट पब्लिकेशन की महंगी पुस्तके निजी स्कूलों द्वारा एक ही निर्धारित जगह या स्कूल से लेने को बाध्य किया जा रहा है। मुख्य सचिव एवं जिलाधिकारी से इस संदर्भ में जल्द से जल्द मनमानी करने वाले स्कूलों पर लगाम लगाकर पीड़ित अभिवावकों को न्याय दिलवाना चाहिए। मांग करने वालों में जितेंद्र चौरसिया, नाथीराम सैनी, मुकेश अग्रवाल, सुनील मनोचा, भूदेव शर्मा, धर्मपाल चौधरी, विनोद कुमार, राजेश शर्मा, अमित कुमार, गौरव गौतम, राजेश भाटिया, उमेश कुमार रहे।

Leave a Comment

error: Content is protected !!