महिला शक्ति के बिना मानव जाति की कल्पना करना असंभव है : ऋतु खंडूडी

आजादी के आंदोलन से लेकर उत्तराखंड राज्य के आंदोलन में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका

-विधानसभा में पहली महिला अध्यक्ष बनने की खुशी में आभार कार्यक्रम आयोजित

दैनिक समाचार, देहरादून
उत्तराखंड राज्य की पांचवीं विधानसभा में पहली महिला अध्यक्ष बनने की खुशी में शिमला बायपास रोड स्थित वेडिंग पॉइंट में धर्मपुर विधानसभा की महिलाओं एवं कार्यकर्ताओं द्वारा एक आभार कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूडी भूषण का माल्यार्पण कर जोरदार स्वागत किया गया। कार्यक्रम के दौरान राज्य में पहली महिला विधानसभा अध्यक्ष बनने पर महिलाओं में गजब का उत्साह देखने को मिला। इस दौरान महिलाओं द्वारा कई सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए जिसमें राजजात यात्रा का कलाकारों द्वारा सुंदर मंचन किया गया।

विधानसभा अध्यक्ष द्वारा सभी महिलाओं का आभार व्यक्त किया गया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि मातृशक्ति आज विभिन्न क्षेत्रों में एवं विभिन्न रूपों में देश का नेतृत्व कर रही है। आज विभिन्न क्षेत्रों में महिलाएं कीर्तिमान स्थापित कर रही है। आजादी के आंदोलन से लेकर उत्तराखंड राज्य के आंदोलन में इस प्रदेश की महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। महिला शक्ति के बिना मानव जाति की कल्पना करना असंभव है। ऋतु खंडूडी भूषण ने कहा की महिलाओं का वास्तविक सशक्तिकरण तभी होगा जबकि वे उन्हें प्राप्त अधिकारों का लाभ उठा पाएं और साथ ही आर्थिक रूप से सशक्त हों।महिला सशक्तीकरण का मतलब है कि उन्हें आर्थिक रुप से सशक्त किया जाए। वे आत्मनिर्भर हों। उन्हें सकारात्मक सोच के साथ किसी भी परिस्थिति का सामना करने लायक बनाया जाए और वे विकास की किसी भी गतिविधि में भाग लेने में सक्षम होनी चाहिए। इस अवसर पर महिला आयोग की अध्यक्ष कुसुम कंडवाल, सांसद तीरथ रावत की धर्मपत्नी रश्मि रावत, कैबिनेट मंत्री धन सिंह रावत की धर्मपत्नी दीपा रावत, कमली भट्ट अनुराधा वालिया, मंजू कौशिक, मुकेश राठौर, सुमन सिंह, पुष्पा बर्तवाल, अरुणा उनियाल, कंचना ठाकुर सहित कई अन्य महिलाएं मौजूद थी।

Leave a Comment

error: Content is protected !!