नाबालिग लड़की और दोस्त ने पहले की पूरी प्लानिंग फिर कर दी हत्या, चार किलोमीटर लेकर गया शव

-पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया जबकि नाबालिग आरोपी को निगरानी में रखा गया है

-आरोप है की बंटी मोहल्ले में उसको बदनाम करते हुए चरित्र पर सवाल उठाता था

दैनिक समाचार, देहरादून, एक नाबालिग लड़की ने अपने नए दोस्त के साथ मिलकर पुराने दोस्त की हत्या कर दी। इसके बाद आरोपी युवक स्कूटर से लाश को जंगल में ले गया और वहाँ गाड़ दिया। पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर लाश बरामद कर ली है। सीओ नेहरू कॉलोनी अनिल जोशी ने रविवार को बताया कि नालापानी रोड निवासी नरेंद्र उर्फ बंटी (27) 16 मार्च की शाम से गायब था। परिजनों ने उसकी गुमशुदगी नालापानी चौकी में दर्ज कराई। इसके बाद 20 मार्च को एक युवती ने मयूर विहार चौकी में अपनी 17 वर्षीय छोटी बहन की गुमशुदगी दर्ज कराई। यह लड़की शनिवार को घर पहुंची, और लड़की ने अपनी बड़ी बहन को बताया कि उसने अपने दोस्त आकाश (22) निवासी डीएल रोड के साथ मिलकर पुराने दोस्त नरेंद्र की बेल्ट से गला दबाकर हत्या कर दी। साथ ही लड़की ने बताया की बंटी उसे बदनाम कर रहा था इसलिए उसकी हत्या की।

सुबह आकाश करीब चार किलोमीटर तक स्कूटर पर बंटी के शव को लेकर गया। फिर उसे जंगल में जाकर गाड़ दिया। वह सरेराह शव को इस तरह लेकर गया की किसी को शक न हो। रायपुर थानाध्यक्ष अमरजीत रावत ने बताया की लड़की और उसके दोस्त ने हत्या करने से पहले पूरी प्लानिंग की थी। लड़की की बड़ी बहन ने यह जानकारी पुलिस को दे दी। पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया जबकि नाबालिग आरोपी को निगरानी में रखा गया है। बता दें की आकाश लड़की से शादी करना चाहता था लेकिन लड़की पहले बंटी के संपर्क में थी। आरोप है की बंटी मोहल्ले में उसको बदनाम करते हुए चरित्र पर सवाल उठाता था। ऐसे में लड़की और आकाश ने मिलकर बंटी की हत्या की प्लानिंग बनाई और दोनों ने मिलकर बंटी की हत्या कर घर से गायब हो गए। 17 वर्षीय लड़की चार साल पहले बंटी के संपर्क में थी। जो कुछ महीने पहले अलग हो गए थे और लड़की आकाश के संपर्क में आई। आरोपी आकाश हत्या की रात अपनी बाइक से लड़की के घर गया। हत्या के बाद शव को बाइक पर लेकर जाना मुश्किल था। ऐसे में उसने शव ठिकाने लगाने के लिए अपनी बहन के घर से उसका स्कूटर लिया। आरोपी आकाश रायपुर चौक के पास पंचर की दुकान चलाता है। आरोपी युवक और लड़की घर से निकलने के बाद पहले मुजफ्फरनगर जाकर रुके। इस दौरान रास्ते में उन्होंने बंटी का मोबाइल फेंक दिया। इसके बाद दोनों दिल्ली होते हुए असम तक गए। असम पहुंचने के बाद आरोपी के पास रुपये कम बचे थे। ऐसे में दोनों शनिवार को घर वापस आ गए। हत्या में शामिल लड़की से बंटी के संपर्क का बंटी की मां को पता था। मृतक के परिवार से जुड़े रंजीत सिंह ने बताया कि बंटी को उसकी मां ने कुछ महीने पहले टोका था। कहा था कि उस लड़की से दूर रहे। उस दौरान बंटी ने भी बताया था की वह लड़की के संपर्क में अब नहीं है।

Dainik Samachaar

Leave a Comment

error: Content is protected !!